आवाज़-ए-हिन्द

मेरे हिम्मत को सराहो मेरे हमराह चलो, मैंने एक दीप जलाया है हवाओं के खिलाफ.

29 Posts

410 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5019 postid : 134

एक क्रिकेट स्टार की खामोश विदाई

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Rahul-dravid

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसके विषय में कहा जाता है कि कोई भी स्थिति निश्चित नहीं,इस खेल में कभी भी कुछ भी हो सकता है। और शायद यही बात इस खेल के खिलाड़ी पर भी लागू होता है। क्रिकेट के “द वाल” कहे जाने वाले राहुल द्रविड क्रिकेट जगत को बड़ी ही सादगी से अलविदा कह कर चले गए वो भी एक प्रेस कांफ्रेंस में अपने छोटे से वक्तव्य के साथ जिसका आयोजन बीसीसीआई नें किया था। वहीं एक और भव्य आयोजन हुआ था जो क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन के महाशतक के लिए हुआ था और जैसा की सचिन नें खुद बयान दिया है कि वे अभी क्रिकेट खेलते रहेंगे यानी उनके लिए अभी और मौका आने वाला है जिसके लिए जश्न मनाया जाएगा लेकिन राहुल द्रविड़ की विदाई उनके अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर का अंतिम आयोजन था वह भी बेरंग। उनके विदाई समारोह के अवसर पर बीसीसीआई द्वार किया गया रस्म अदायगी का आयोजन मन को कचोट गया।
Rahul_Dravid_the_wall1
टीवी के रियलिटी शो में अक्सर एक बात कहा जाता है आप में एक्सफेक्टर की कमी है शायद राहुल द्रविड़ में भी एक्सफेक्टर की कमी थी तभी तो क्रिकेट के “द वाल” को वह सम्मान नही मिला जो उनको मिलना चाहिए था। अपने क्रिकेट कैरियर के उतार-चढाव में कभी भी उन्होने अपने आलोचकों को मुखर हो कर जवाब नहीं दिया हां अपनी काबलियत और बेहतरीन क्रिकेट से जवाब जरुर देते रहे और यही क्रिकेट जैसे जेंटल खेल के जेंटल मैन का अंदाज़ भी रहा। उनहोंने अपने क्रिकेट कैरियर में बेहतरीन क्रिकेट का प्रदर्शन किया। राहुल द्रविड़ द्वारा टेस्ट मैच में बनाया गए 36 शतक में से 32 शतक ऐसे थे, जो बेहद महत्वपूर्ण साबित हुए क्योंकि उन शतकों कि बदौलत भारतीय क्रिकेट टीम ने या तो मैच जीता या फिर मैच बचाने में काम आया बावज़ूद इसके उन्हें कभी विनर खिलाड़ी के रुप में देखा नहीं गया या यूँ कहें टेस्ट क्रिकेट में उनको वह सम्मान नहीं मिला जिसके वे हकदार थे। तो क्या स्टार बनने के लिए एक्स फेक्टर का होना बेहद जरुरी है काबलियत का कोई मोल नहीं होता। शायद दुनिया कि यही रीत है और इन्सानी फितरत भी यही है। इसको ऐसे समझने की कोशिश कीजिए जब कोई खूबसूरत मकान को देखता है तो उस मकान के रंग रोगन और चमक दमक की तारीफ़ तो करता है लेकिन उस मकान की नींव की तारीफ बहुत कम लोग करते हैं। कारण नींव का नजर नहीं आना, जबकि हकीक़त यह है की उस मकान का वजूद ही नींव कि बदौलत है। रंग रोगन और चमक दमक की तारीफ करने वाले लोग की भीड़ हो सकती है लेकिन नींव की बात वही करेगा जिसमें नींव कि अहमियत समझने की सलाहियत होगी। ऐसे लोग कम ही होते हैं। राहुल द्रविड़ भी क्रिकेट के महल की नींव की तरह है जिन्होनें बड़े धैर्यपूर्वक महल को सम्भालने में अपना अमूल्य योगदान दिया। राहुल द्रविड़ जैसे रियल हीरो इस देश में बहुत कम ही हैं जो अपना काम बेहद शालीनतापूर्वक कर के देश के युवाओं को मौका देने जैसा नायाब सोंच के साथ साहसपूर्ण फैसला लेते हुए खामोशी से अलविदा कह देते हैं। भले ही हीरो बनने वाले एक्स फैक्टर के दम पर अधिकांश लोगो को आकर्षित करने में कामयाब रहें। लेकिन मिस्टर भरोसेमंद के साहस, योगदान और खामोशी को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है।
सबसे अहम सवाल क्या राहुल द्रविड़ कि विदाई एडम गिलक्रिस्ट और मुरलीधरन सा विदाई नहीं होना चाहिए था। क्या राहुल द्रविड़ अर्जुन राणातुंगा जैसे भरे स्टेडियम में भावभीनी विदाई के हकदार भी नहीं थे।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

akraktale के द्वारा
April 7, 2012

रशीद भाई नमस्कार, बहुत दिनों बाद आवाज-ए-हिंद मंच पर गूंजी है.राहुल द्रविड़ टेस्ट क्रिकेट के सर्वोत्तम खिलाड़ी हैं.इसमें शक की कोई गुंजाइश नहीं है. किन्तु आज टेस्ट क्रिकेट का दायरा बचा कितना है हर समय एक दिवसीय या फिर २०-२० ने टेस्ट क्रिकेट की चमक को कम कर दिया है.यही कारण है की इस महान खिलाड़ी की विदाई भी बेरौनक रही. मगर राहुल जब भी टेस्ट क्रिकेट की बात आएगी सबके दिलों में रहेंगे.

rajkamal के द्वारा
April 6, 2012

आदरणीय अब्दुल रशीद भाई …… आदाब ! बाकि की सारी बाते अपनी जगह पर बिलकुल ठीक हो सकती है लेकिन पकिस्तान में सचिन को डबल सैन्चुरी से वंचित करने वाले राहुल द्रविड के पारी घोषित के फैसले के बाद से मेरे मन में उनके लिए उतनी इज्जत नहीं रही जितनी की पहले थी और यही हालात आज भी है अछे लेख पर मुबारकबाद :) :( ;) :o 8-) :| :) :( ;) :o 8-) :|

nishamittal के द्वारा
April 6, 2012

आपके विचार से सहमती है मेरी भेई परन्तु राहुल भी दिलों के सम्राट हैं,मीडिया कमाऊ घोड़ों की बात करता है ,वैसे सचिन के सम्मान में आयोजित कोंफ्रेंस पर आपत्ति होना अनुचित है,हाँ राहुल को यथेष्ठ सम्मान न मिलना दुखद

चन्दन राय के द्वारा
April 6, 2012

Abdul Rashid ji , राहुल द्रविड़ जैसे रियल हीरो इस देश में बहुत कम ही हैं जो अपना काम बेहद शालीनतापूर्वक कर के देश के युवाओं को मौका देने जैसा नायाब सोंच के साथ साहसपूर्ण फैसला लेते हुए खामोशी से अलविदा कह देते हैं। जिस तरह दूसरा तेंदुलकर अशंभव है , ठीक उसी तरह दूसरा राहुल द्रविड़ नहीं हो सकता , i bow to yur greatness Rahul Dravid Sir, http://chandanrai.jagranjunction.com


topic of the week



latest from jagran